Friday, November 1, 2013

अनसुलझे सवाल

                                      ये कहाँ आ गए हम , कुछ याद  नहीं
                                     हम जी रहे हैं या जीने का दिखावा है यह
                                     सूखे पत्ते भी हवा के झोंको से हिलते हैं
                                      पथ्थर भी आवाज़ करते हैं टकराने पे
                                       हम जड़  से बेआवाज़ बेसुध पड़े हैं
                                      किस जगह रुक गए यूँ चलते चलते
                                        सब चलते चलते आगे बढ़ गए
                                      हमीं ठहर गए जो अविरल धारा  से बहते थे
                                      जिसके लिए ये ठहरे उसे तो शायद उससे तो एहसास भी नहीं
                                       अब तो हिसाब भी नहीं क्या खोया क्या  पाया
                                         क्यूँ रुक गए वो लहराते पवन के झोंके
                                         वो चहकती  बुलबुल क्यूँ मौन हो गई
                                        जिसके गीतों से घर आंगन गूंजता था
                                      कहाँ खो गए वो गीत , क्यूँ चुप हो गई वो
                                         कहाँ खो गई वो खनखनाहट
                                       क्यूँ मौन हो गई वो पायल
                                         एक अनसुलझा सवाल जो शायद कभी न सुलझ पाए
                                      
                                                                                 
                                     
                                      

11 comments:

  1. बहुत सुंदर लिखा आशा

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर. दीपोत्सव की मंगलकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : कुछ भी पास नहीं है
    नई पोस्ट : दीप एक : रंग अनेक

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजीव कुमार झा जी

      Delete
  3. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :- 07/11/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक - 40 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. धन्यवाद राजीव जी
      मुझे चोपाल का ज्यदा पता नहीं था
      आज देखा
      अच्छा लगा और हर्ष हुआ
      आप लोगो के उत्साह से ही हमारी रचनाओं में सुधार आ सकता है
      उत्साहित करता है लिखने के लिए

      Delete
  4. सुन्दर रचना,,,, वस्तुत : पहली बार आपके चिट्ठे पर आना हुआ है।।

    नई कड़ियाँ : एशेज की कहानी

    भारतीय क्रिकेट टीम के प्रथम टेस्ट कप्तान - कर्नल सी. के. नायडू

    ReplyDelete
  5. सार्थक अभिवयक्ति......

    ReplyDelete