Wednesday, October 2, 2013

आस

                                           रोज़ एक आस लगाये सोती हूँ
                                             शायद कल बदल जाए सब |
                                           कल फिर आज को दोहराता है
                                           कब धुंद छटेगी उजाला होगा |
                                             कब इन वीरानो में भी
                                          खुशिओं की महक बिखरेगी |
                                          छोटे छोटे एहसास कुलांचें भरेंगे
                                         खिलखिलाहटो की झंकार गूंजेगी |
                                         कब रौशनी इस वीरानें को रौशन करेगी
                                         या मेरी चाहत यूँ ही मौन कहीं खो जाएगी|
                                              अजब दस्तूर है तेरा  ज़िन्दगी
                                                अजब तेरे इरादे  हैं   ज़िन्दगी |
                                                     जितना तुझे समेटते हैं
                                         उतनी सूखे पत्तों सी बिखर जाती है |
                                           बहुत आजमा लिया तूने मुझे
                                              
                                     
                                    

  आ अब मैं तुझे आजमाती हूँ    |                                   

9 comments:

  1. बहुत सुंदर ....दिल छू लिया आशा

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. धन्यवाद मीना जी

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना की ये चन्द पंक्तियाँ.........

    रोज़ एक आस लगाये सोती हूँ
    शायद कल बदल जाए सब |
    कल फिर आज को दोहराता है
    कब धुंध छटेगी उजाला होगा |

    .......शनिवार 05/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    को आलोकित करेगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. dधन्यवाद यशोदा जी

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. धन्यवाद ओंकार जी

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete